Mushroom Ki Kheti

Mushroom Ki Kheti:कम लागत में दुगने मुनाफे की खेती,कहां से ले मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण(ट्रेनिंग) और कहां से करें आवेदन ,जानिए सबकुछ विस्तार से!-Very useful

कम लागत में दोगुना मुनाफा, कहां ले खेती की ट्रेनिंग

 संस्थान द्वारा तय प्रशिक्षण का पूरा कार्यक्रम और आवेदन की प्रक्रिया

Mushroom Ki Kheti 2022:-किसानों की आय बढ़ाने के लिए परंपरागत फसलों की तुलना में अधिक मुनाफा देने वाली फसलों की खेती पर जोर दिया जा रहा है। खेती को लाभदायक बनाने के लिए किसान समय की आवश्यकता के अनुसार विशेष प्रकार की अधिक लाभ देने वाली फसलों की खेती करें। इन लाभकारी खेती की सूची में मशरूम की खेती किसानों के लिए ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकती है।

मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण
मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण

मशरूम की खेती की खास बात यह है कि इसे एक छोटे से कमरे से शुरू किया जा सकता है। इसके लिए जरूरी है कि आपके पास एक लंबा चौड़ा मैदान हो। किसान भाई कम लागत और कम जगह में इसकी खेती करके इससे बहुत अच्छा लाभ कमा सकते हैं। इसकी खेती के लिए सरकार की ओर से अनुदान भी दिया जाता है।

किसान Mushroom Ki Kheti इस तरह कमा सकते हैं लाखों रुपए

बता दें कि मशरूम का इस्तेमाल सब्जी के तौर पर किया जाता है। इसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व होने के कारण इसका इस्तेमाल बॉडी बिल्डिंग में इस्तेमाल होने वाले चूर्ण को बनाने में भी किया जाता है। मशरूम पाउडर काफी महंगा बिकता है। इस तरह किसान इससे ताजा बेचकर और इसका पाउडर बेचकर भी अच्छा पैसा कमा सकते हैं। लेकिन मशरूम की खेती से पहले किसानों को किसी अच्छे संस्थान से प्रशिक्षण लेना चाहिए।

READ MORE  EPFO Intrest : पीएफ खाताधारकों को मिलेंगे 56,000 रुपये very useful

किसान Mushroom Ki Kheti का प्रशिक्षण लेने के लिए कहां करें आवेदन

कई प्रशिक्षण संस्थान इसकी खेती में प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। इसी क्रम में डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, बिहार को सितंबर माह में मशरूम उत्पादन से संबंधित विषयों पर प्रशिक्षण देना है.

इच्छुक किसान अगस्त माह में इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। किसान अपनी इच्छानुसार संबंधित विषयों पर प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Mushroom Ki Kheti 

किन विषयों का दिया जाएगा प्रशिक्षण

कृषि विश्वविद्यालय की ओर से किसानों को अलग-अलग दिन, अलग-अलग विषयों पर प्रशिक्षण दिया जाएगा. प्रशिक्षण में भाग लेने के लिए किसानों को आवेदन करना होगा। अभी किसान नीचे दिए गए विषयों पर प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं जो इस प्रकार हैं।

1. बटन मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण

जो किसान बटन मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहते हैं वे 25 अगस्त 2022 तक आवेदन कर सकते हैं। चयनित किसानों को 1 सितंबर से 7 सितंबर तक 7 दिनों का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

इस प्रशिक्षण को प्राप्त करने के लिए विश्वविद्यालय द्वारा 1500 रुपये शुल्क रखा गया है। जिसे किसानों को बैंक ड्राफ्ट के माध्यम से जमा करना होगा। कुल 40 आवेदकों को यह प्रशिक्षण दिया जाएगा।

2. मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण

जो किसान मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहते हैं, वे 10 अगस्त 2022 से 30 अगस्त 2022 के दौरान आवेदन कर सकते हैं। चयनित किसानों को 12 से 18 सितंबर तक 7 दिनों का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

READ MORE  Diesel Subsidy Yojana: सिंचाई के लिए किसानों को प्रति एकड़ मिलेंगे 600 रुपये, यहाँ जल्दी करें ऑनलाइन आवेदन-Very useful

इसे प्राप्त करने के लिए विश्वविद्यालय द्वारा 150 रुपये का शुल्क रखा गया है। प्रशिक्षण। जिसे किसानों को बैंक ड्राफ्ट के माध्यम से जमा करना होगा। कुल 40 आवेदकों को यह प्रशिक्षण दिया जाएगा।

3. औषधीय मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण

जो किसान औषधीय मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहते हैं वे 15 अगस्त 2022 से 20 सितंबर 2022 के दौरान आवेदन कर सकते हैं। चयनित किसानों को 27 से 29 सितंबर तक 3 दिन का प्रशिक्षण दिया जाएगा।विश्वविद्यालय ने इस प्रशिक्षण के लिए 600 रुपये रखे हैं। जिसे किसानों को बैंक ड्राफ्ट के माध्यम से जमा करना होता है। कुल 40 आवेदकों को यह प्रशिक्षण दिया जाएगा।

Mushroom Ki Kheti 2022 में प्रशिक्षण के लिए अन्य संस्थान-मशरूम उत्पादन में प्रशिक्षण एक महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि प्रशिक्षण प्राप्त किए बिना कोई व्यक्ति सफलतापूर्वक मशरूम का उत्पादन नहीं कर सकता है, सभी अवयवों की सही मात्रा प्राप्त करने से संबंधित जानकारी के लिए निम्नलिखित केंद्रों से संपर्क किया जा सकता है। 

  • राष्ट्रीय मशरूम अनुसंधान केंद्र, बंबाघाट सोलन, हिमाचल प्रदेश।
  •  डिपार्टमेंट ऑफ प्लांट पैथोलॉजी चंद्रशेखर आजाद यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर एंड टेक्नोलॉजी, कानपुर-208002 यू.पी.
  • अखिल भारतीय समेकित मशरूम विकास परियोजना के तहत कुछ राज्यों से प्रशिक्षण कार्य भी चल रहा है जो इस प्रकार हैं। डिपार्टमेंट ऑफ प्लांट पैथोलॉजी इंदिरा गांधी एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी, रायपुर, छत्तीसगढ़।
  • प्लांट पैथोलॉजी विभाग, आईआईएचआर बैंगलोर, कर्नाटक।
  •  बागवानी विभाग, मेघालय, शिलांग। उद्यानिकी निदेशालय, लखनऊ उत्तर प्रदेश।
  • बागवानी निदेशालय, ईटा नगर, अरुणाचल प्रदेश।
READ MORE  QR Code Voter ID Card 2022: जारी हुआ QR Code वाला Smart Voter Card, ऐसे करें प्राप्त | Very Useful

किसानों को यहां जमा करना होगा

मशरूम उत्पादन तकनीक का प्रशिक्षण शुल्क

प्रशिक्षण के लिए डॉ राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय की ओर से प्रशिक्षण शुल्क रखा गया है। किसानों को डिमांड ड्राफ्ट (डीडी) के माध्यम से इस शुक्ला को बनाना और जमा करना होगा। डी.डी. वाले किसान को इसकी फोटोकॉपी अपने पास जरूर रखें। ड्राफ्ट बनाते समय जिन बातों का जिक्र करना होता है, वे इस प्रकार हैं|

खाता संख्या4512002100001682  IFSC Code: PUNB0451200
बैंक का नामPunjab National Bank, RAU Pusa Branch
खाता धारक का नामMushroom Revolving Fund

इसके अलावा इच्छुक किसान जो मशरूम से संबंधित इन विषयों पर प्रशिक्षण लेना चाहते हैं। वे किसान डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के पोर्टल से आवेदन कर सकते हैं। परियोजना निदेशक मशरूम डॉ दयाराम को उनके मेल ID [email protected] पर मेल कर सकते हैं

इसके अलावा किसान https://www.rpcau.ac.in/mushroom-production-technology /#1524548998302-1ec56996-4a8e पर दिए गए लिंक से मशरूम प्रशिक्षण के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Important links

Home PageClick Here
Join Our Telegram GroupClick Here

यह भी पढ़ें-👇👇